सिफ़र

एक 

जब तक मरहम के अन्दर का जख्म तजा हो, 
बस इतना ही मेरे शान--ख़म का तकाज़ा हो ||
जब भी मरूँ बे रिवाज बे दस्तूर फ़ना हो जाऊं,
यारों की मुहोब्बत से ये दस्तूर लिहाजा हो||
के रखें हों फूल महफूज सीने में सलीके से,
मिले कफ़न, हो कब्र कोई जनाजा हो||

दो 

यूँ गुनगुनाहट बरसे के हम तर बतर हो जाये,
जिंदगी सिजदे पे हो और मौत बेअसर हो जाये||
हर शिकस्त हर मजबूरी को मजबूर करदें हम,
इतने संगीन जुर्म में कैद ये जिगर हो जाये||
इतनी शिद्दत से बुने किश्ती का ताना बना,
के कुछ लूटे लम्हों  में उम्र बसर हो जाये||
हो बस इतनी सी गुंजाईश इस नादाँ दुनिया में,
के वो पलकें मूँद ले तो सिफ़र हो जाये...
और वो आँखें खोल दे तो ये सफ़र हो जाए||
  
तीन 

हो तो हो किसी की भी ये कायनात,
अब हमसे किसी का अहेतराम होगा||
हो कोई कंजर्फ़ हो, हातिम या  रसूख--खां,
अब किसी से कोई दुआ सलाम होगा||
मै तो सफ़र में हूँ सिफ़र से सिफ़र तक,
कोई सूब--मुल्क से मेरा नाम होगा||
हो फ़ना ये मजहब, काएदे ये अह्दो-रवाज,  
मेरे फैसलों  में अब तेरा फरमान होगा ||
जब जायेंगे दिल--जां से हंस के जायेंगे ,
इल्म्दारों को भी हमसा यूँ इत्मिनान होगा||

No comments:

Featured Post

Draw knowledge & wisdom from history NOT information…

History is being rigged, information has been distorted and facts are tossed in flake. We must know how to draw wisdom from the knowledge...

Popular Posts